उत्पाद एवं मद्यनिषेध सह प्रभारी मंत्री की अध्यक्षता में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम बैठक आयोजित

उत्पाद एवं मद्यनिषेध सह प्रभारी मंत्री की अध्यक्षता में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम बैठक आयोजित

उत्पाद एवं मद्यनिषेध सह प्रभारी मंत्री की अध्यक्षता में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम बैठक आयोजि


मोतिहारी।पु0च0
जिलाधिकारी शीर्षत कपिल अशोक द्वारा  उत्पाद एवं मद्यनिषेध सह जिले के प्रभारी मंत्री सुनील कुमार की अध्यक्षता में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पश्चिम चंपारण सांसद डॉ संजय जायसवाल, शिवहर सांसद रामा देवी, गन्ना उद्योग एवं विधि विभाग मंत्री -सह- मोतिहारी विधायक प्रमोद कुमार, सुगौली विधायक ई० शशिभूषण सिंह, नरकटिया विधायक शमीम अहमद, हरसिद्धि विधायक कृष्ण नंदन पासवान, गोविंदगंज विधायक सुनील मणि तिवारी, केसरिया विधायक शालिनी मिश्रा, पिपरा विधायक श्याम बाबू प्रसाद यादव, कल्याणपुर विधायक मनोज कुमार यादव, मधुबन विधायक राणा रणधीर सिंह, रक्सौल विधायक प्रमोद कुमार सिन्हा, चिरैया विधायक  लाल बाबू प्रसाद गुप्ता, ढाका विधायक पवन जायसवाल, बिहार विधान परिषद  शिक्षक सारण केदारनाथ पांडे के साथ में  कोविड19 के प्रबंधन एवं बाढ़ पूर्व तैयारियों पर चर्चा को लेकर बैठक की गई।जिलाधिकारी ने कोरोना संबंधी तैयारियों एवं बाढ़ के तैयारियों का पीपीटी के माध्यम से वर्तमान स्थिति के संबंध में विस्तृत जानकारी दी। जिला पदाधिकारी कोरोना संक्रमण के बचाव हेतु की गई तैयारियों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि जिले में कुल डीसीएचसी की संख्या प्राइवेट एवं सरकारी सहित 11 है जिसमें कूल बेड 758 है। टोटल कोविड केयर सेंटर 19 है। तथा कोविड केयर सेंटर में कुल बेड की संख्या 192 है।  कुल ऑक्सीजन की बेड की संख्या 758 है। कुल ICU की संख्या प्राइवेट एवं सरकारी सहित 52 है। 
 

उन्होंने कहा कि अप्रैल 21 से अब तक कुल 195941 टेस्ट किया गया है। एएनएम द्वारा घर घर जाकर HIT ऐप पर होम आइसोलेशन में रह रहे कोरोना पेशेंट का टेंपरेचर एवं ऑक्सीजन लेवल एप पर अपलोड किया जा रहा है। अभी वर्तमान में कूल कंटेनमेंट जोंस 26 है।जिले में लगातार मास्क चेकिंग किया जा रहा है और इस दौरान फाइन भी लगाया जा रहा है अभी तक मास्क चेकिंग के दौरान 14 लाख 25हजार 600 रुपए का फाइन लगाया गया है। पंचायत स्तरीय मास्क डिस्ट्रीब्यूटर का कार्य  किया गया है जिसमें अभी तक 19 लाख 41 हजार 546 मास्क वितरण किया गया है, जिसमें 323591 परिवारों को मास्क दिया गया है। 

समुदायिक किचन प्रत्येक प्रखंडों में एवं सदर हॉस्पिटल, नगर निगम सहित सभी नगर निकायों में संचालित है। जिला में नियंत्रण कक्ष स्थापित है 24 *7 संचालित है तथा लोगों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए जा रहे हैं। अभी तक जिले में कुल वैक्सीनेशन 309065 लोगों को फर्स्ट डोज दिया गया है जबकि सेकेंड डोज 60567 लोगों को दिया गया है। 
 माननीय सदस्यों ने सुझाव दिया कि  ग्रामीण क्षेत्रों में टेस्टिंग  एवं टीकाकरण को व्यवस्था किया जाय।जिलाधिकारी ने बाढ़ पूर्व की तैयारियों के संबंध में कहा कि इस जिले में कुल 44 सरकारी एवं 132 निजी नाव है। निजी नाव का एकारनामा कराने हेतु अंचल  अधिकारियों को आदेश दिया गया है। अभी जिले में पॉलिथीन सीट की संख्या 26275 है, टेंट की संख्या 184 है, महाजाल 4 है, लाइफ जैकेट की संख्या 400 है, जीपीएस सेट की संख्या 7 है, मोटर वोट ड्राइवर की संख्या 7 है, प्रशिक्षित  गोताखोरों की संख्या 10 है, खोज बचाव एवं राहत दल की संख्या 27 है, चिन्हित शरण स्थली की संख्या 340 है। सभी तटबंध के मरम्मत के कार्य लगभग पूर्ण कर लिया गया है उन्होंने कहा कि बाढ़ के समय संकटग्रस्त परिवारों के व्यक्तियों को शुद्ध पेयजल एवं भोजन आदि व्यवस्था हेतु समुदाय रसोई के माध्यम से किया जाएगा। उन्होंने कहा कि बाढ़ से प्रभावित क्षेत्रों के सभी लाभुकों का आधार का सत्यापन सम्पूर्ति  पोर्टल पर किया जा रहा है ताकि बाढ़ के समय उन्हें लाभ पहुंचाया जा सके। पथ निर्माण विभाग, ग्रामीण कार्य विभाग, जिला परिषद, नगर परिषद, नगर निकाय के पदाधिकारी अपने विभाग से संबंधित क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मत का पूरा करने का निर्देश  दिया गया है ताकि बाढ़ के समय आवागमन में कोई कठिनाई नहीं हो। बाढ़ नियंत्रण कम्युनिकेशन प्लान बना लिया गया है जिला स्तर पर संचार माध्यमों से युक्त स्थाई नियंत्रण कक्ष की स्थापना कर ली गई है 06252 242418 है। बाढ़ से संबंधित सभी टेंडर 31 मई तक कर लिया जाएगा। चिकित्सा व्यवस्था तथा अन्य दवाइयों की व्यवस्था कर ली गई है मोबाइल मेडिकल टीम का गठन किया गया है। पीएचडी विभाग द्वारा चापाकल की मरम्मत का कार्य किया जा रहा है। उक्त वीडियो कांफ्रेंसिंग में सभी मंत्री, सांसद, विधायक, बिहार विधान परिषद  शिक्षक सारण से जिलाधिकारी द्वारा सुझाव प्राप्त किया गया । उक्त बैठक में  पुलिस अधीक्षक के साथ उप विकास आयुक्त, अपर समाहर्ता, अपर समाहर्ता आपदा प्रबंधन, सिविल सर्जन, जिला कृषि पदाधिकारी सहित जिले के अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।