वर्ल्ड पेशेंट सेफ्टी डे पोस्टर प्रतियोगिता में जिला अस्पताल प्रथम

वर्ल्ड पेशेंट सेफ्टी डे पोस्टर प्रतियोगिता में जिला अस्पताल प्रथम

 

- सेफ मेटरनल एंड न्यूबार्न केयर है इस वर्ष की थीम 
- एसडीएच प्रतियोगिता में दूसरे स्थान पर 

वैशाली। 22 सितंबर
जिले के सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर  11 से 17 सितंबर तक रोगी सुरक्षा सप्ताह मनाया गया। जिसमें सभी स्वास्थ्य केंद्रों ने इस वर्ष के थीम सेफ मेटरनल एंड न्यूबार्न केयर पर आधारित पोस्टर बनाया। बेहतरीन पोस्टर बनाने में प्रथम स्थान जिला अस्पताल तथा दूसरा स्थान सदर अस्पताल महुआ को मिला। विजेताओं का निर्धारण जिला स्वास्थ्य समिति के स्वास्थ्य पदाधिकारियों ने किया। एसीएमओ डॉ अमिताभ कुमार सिन्हा प्रमुख निर्णायक के रूप में थे। वर्ल्ड पेशेंट डे की महत्ता पर प्रकाश डालते हुए डॉ सिन्हा ने कहा कि हर वर्ष वर्ल्ड पेशेंट डे मनाया जाता है। जिसका उद्येश्य सुरक्षित स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करना एवं अधिक से अधिक आम जनों तक इसकी जानकारी पहुंचाना है। 17 तारीख को महाअभियान के कारण इसे बुधवार को आयोजित किया गया। 

प्रसव पूर्व तैयारी के पोस्टर को मिला पहला स्थान 
केयर डीटीएल सुमित कुमार ने कहा कि पहला स्थान जिला अस्पताल के पोस्टर को मिला है। इसका प्रमुख कारण इसमें दर्शाए प्रसव पूर्व की तैयारियां हैं। अगर आप देखें तो बिना एएनसी के हम प्रसव संबंधित जटिलताओं का पता नहीं लगा सकते हैं। उस पोस्टर में एक बात और अच्छी थी एएनसी के साथ गर्भकाल के दौरान पोषक तत्वों के चित्रण और परिवार नियोजन के साधान भी चित्रित थे। वहीं  नर्स के साथ बने चित्र संस्थागत प्रसव की ओर भी इंगित कर रहे थे। यह मातृत्व एवं शिशु स्वास्थ्य के सभी आयामों को छू रहा था। इस कारण इसे प्रथम पुरस्कार से नवाजा गया। वहीं दूसरे पुरस्कार में एसडीएच महुआ का नारा मिलकर लेते हैं यह संकल्प माता शिशु की हर समस्या का निकालेगें विकल्प उनकी दूरदर्शी सोंच को भी दिखा रही थी। तीसरा पुरस्कार सीएचसी राजापाकर तथा जंदाहा को मिला है। 

मरीजों का सही पचार हमारा कर्तव्य
एसीएमओ डॉ अमिताभ कुमार सिन्हा ने कहा कि मरीजों का स्वास्थ्य हमारी पहली प्राथमिकता है। हम उन्हें हर वह सहुलियत देने की कोशिश करते हैं जो यहां उपलब्ध है। मौके पर एनसीडी डॉ आरके साहु, डीआइओ डॉ उदय नारायण सिन्हा, डीएस डॉ एसके वर्मा, केयर डीटीएल सुमित कुमार सहित अन्य स्वास्थ्यकर्मी उपस्थित थे।