ऑपरेशन के दौरान महिला की मौत, परिजनों ने मौत का कारण बेहोशी दवा की अधिक डोज देने की आरोप लगाया

ऑपरेशन  के दौरान महिला की मौत, परिजनों ने मौत का कारण बेहोशी दवा की अधिक डोज देने की आरोप लगाया

सागर कुमार,,सीतामढ़ी ब्यूरो,,

सीतामढ़ी :- परसौनी, डॉक्टर के लापरवाही के कारण ऑपरेशन के दौरान एक महिला की मौत से हंगामा शुरू। बताया जा रहा है की ऑपरेशन के समय बेहोशी की दवा का अधिक डोज पड़ने के कारण नसबंदी के दौरान स्वास्थ्य केंद्र परसौनी में महिला की मौत हो गई है। मृतक की पहचान शिवहर जिला अंतर्गत पिपराही प्रखंड के धनकौल गांव निवासी श्रवण राय की पत्नी रानी देवी के रूप में किया गया है। बताया गया है कि बुधवार को करीब 16 महिला का नशबंदी डॉक्टर एस पी झा के द्वारा किया गया। आठवे नम्बर मे रानी देवी का ऑपरेशन करीब 7 बजे हुआ। जिस दौरान कई बार लाइट कटि थी। रात के अंधेरे में ऑपरेशन किया गया। रोगी जब बाहर निकला तो होश में नही आया।

करीब एक घंटे के बाद होश नही आया। उसके बाद परिजन डॉक्टर को इसकी जानकारी दिया। जब डॉक्टर ने रोगी को देखा और मृत पाया। मृत स्थिति में देख। डॉक्टर सहित सभी अस्पताल के कर्मचारी सभी रोगी को छोड़ फरार ही गए। जानकारी के अनुसार परसौनी अस्पताल में ऑपरेशन के दौरान रोगी को बेहोश किया जाता है। जिस लिए रोगी को बेहोशी की दवा (केटमिन) एनेस्थेसिया के डॉक्टर के द्वारा दिया जाता है। जबकि आज जब ऑपरेशन किया गया तो ट्रेंड स्टाफ के द्वारा दिया गया। इससे यह साबित होता है कि दवा का ओभर डोज पड़ने के कारण  महिला की जान गई है। सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंचे थाना प्रभारी विजय कुमार गुप्ता ने डियूटी रजिस्टर पर देखा तो पाया कि पीएचसी प्रभारी तौसीफ अहमद का हाजिरी नही बना था। वही दन्त चिकित्सक डॉ जैनेन्द्र कुमार के सहारे सभी मरीज को छोड़ फरार हो गए थे। 

पीएचसी प्रभारी तौसीफ अहमद ने फोन पर जानकारी दी गई कि मृत्य का कारण हार्ट अटैक है। वही लोगों का कहना है की जब प्रभारी थे ही नही तो उन्हे मौत कैसे हुई। जिसका कारण कैसे उन्हें मालूम हो गया।