पोषण विषय पर चित्रकला सह नारा लेखन प्रतियोगिता का आयोजन 

पोषण विषय पर चित्रकला सह नारा लेखन प्रतियोगिता का आयोजन 

मुजफ्फरपुर,
सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के फील्ड आउटरीच ब्यूरो, के द्वारा आज मुजफ्फरपुर के महंत दर्शन दास महिला महाविद्यालय, के सी. एन. डी विभाग एवं गृह विज्ञान विभाग के सहयोग से पोषण माह के अवसर पर चित्रकला सह नारा लेखन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। बड़ी संख्या में कालेज की छात्राओं ने इस प्रतियोगिता में हिस्सा लिया। इस प्रतियोगिता का विषय “कुपोषण छोड़, पोषण की ओर, थामे क्षेत्रीय भोजन की डोर” था। इससे पूर्व कार्यक्रम में छात्राओं को संबोधित करते हुए डॉ कनुप्रिया, प्राचार्य, एमडीडीएम कॉलेज ने कहा कि सुपोषण के प्रति छात्राओं में जागरूकता लाना जरूरी है और ऐसे कार्यक्रम होते रहना चाहिए। तभी देश में व्याप्त कुपोषण को दूर किया जा सकता है। 
एमडीडीएम कॉलेज के सी. एन. डी विभाग की कॉर्डिनटर डॉ सुशीला सिंह ने कहा कि पोषण हर किसी के लिए आवश्यक है। देश के हर नागरिक को यह अधिकार है की वह सुपोषित हो। इसके लिए जन जागरूकता होते रहना चाहिए। एमडीडीएम कॉलेज के गृह विज्ञान की विभागाध्यक्ष, डॉ कुसुम कुमारी ने कहा कि पोषण माह के विभिन्न थीम है – पोषण वाटिका, योग एवं आयुष, क्षेत्रीय पोषण किट वितरण एवं गंभीर रूप से तीव्र कुपोषण बच्चों की पहचान एवं उनके बीच पौष्टिक भोजन का वितरण, जिसपर इस तरह के कार्यक्रम किए जा रहे हैं। 
फील्ड आउटरीच ब्यूरो, सीतामढ़ी के क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी जावेद अंसारी ने कहा कि लोगों को जागरूक करने के लिए मुजफ्फरपुर के विभिन्न स्थानों पर पोषण के प्रति जागरूकता लाने के लिए जन जागरूकता कार्यक्रम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय पोषण माह का मुख्य कार्यक्रम का आयोजन 24 सितंबर को महंत दर्शन दास महिला महाविद्यालय (एमडीडीएम), मुजफ्फरपुर में 11 बजे पूर्वाहन किया जाएगा। इस कार्यक्रम में पोषण जागरूकता रैली, पोषण रंगोली, अन्नप्राशन, गोद भराई, फ़ोटो प्रदर्शनी, परिचर्चा सह प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता, सांस्कृतिक कार्यक्रम समेत अन्य गतिविधियों का आयोजन किया जाएगा। मौके पर वरिष्ठ शिक्षिका डॉ उषा सिंह, डॉ नीलू कुमारी, डॉ रंजना मल, डॉ नीलम कुमारी, पंखुरी कुमारी, डॉ निशी रानी, डॉ मोमिता, नीता श्रीवास्तव एवं डॉ शालिनी कुशवाहा के साथ फील्ड आउटरीच ब्यूरो, सीतामढ़ी के ग्यास अख्तर, अर्जुन लाल, राकेश कुमार आदि उपस्थित थे।